हिन्दी समाचार
  • सतारा के साहित्य सम्मेलन से बाहर निकाले गए दो दलित लेखक
    महाराष्ट्र के सतारा में दो दलित लेखकों को एक साहित्य सम्मेलन से अपमानित कर सिर्फ इसलिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि इन लेखकों के भाषणों से मराठा समुदाय से जुड़े कुछ संगठन नाराज हो गए थे। घटना, सतारा के पाटन की है जहां महाराष्ट्र साहित्य परिषद की ओर से दो दिवसीय साहित्य सम्मेलन का आयोजन ...
  • गोरक्षा के नाम पर दलितों और मुस्लिमो को मारना भाजपा को भारी पड़ने लगा| दलित मुस्लिम एक हुये
    यूपी में गोरक्षा के मुद्दे ने दलितों और मुस्लिमों को गोलबंद कर दिया है जिसका फायदा बीएसपी को आने वाले चुनाव में मिल सकता है। यूपी में दलित और मुस्लिम वोटर्स एक नए चुनावी समीकरण के तौर पर उभर रहे हैं। बीजेपी यूपी में अपनी प्रतिद्वंद्वी पार्टी बीएसपी के दलित वोट में सेंध लगाने की ...
  • सहारनपुर: यहां पुलिस के डर से जंगलों में रात बिता रहे हैं दलित!
    15 अगस्त के बाद से सहारनपुर के उसंद गांव के दलित समुदाय के लोग पास के जंगल में रात गुजार रहे हैं। गांव की दलित महिलाएं रात भर देखा करती हैं कि कहीं पुलिस की जीप तो नहीं आ रही है। पिछले एक हफ्ते में तीन दलितों की कथित तौर पर पुलिस की ज्यादती की ...
  • ABP-नीलसन सर्वे : 2017 में बसपा बनाएगी उत्तर प्रदेश में सरकार
    एबीपी न्यूज ने कल आपको यूपी का ओपिनियन पोल दिखाया था जिसमें बीएसपी सरकार बनाने के करीब नजर आ रही थी. सत्ताधारी समाजवादी पार्टी सर्वे में तीसरे नंबर पर थी. आज एबीपी न्यूज के ओपिनियन पोल की गूंज यूपी में सुनाई दी. देखिए सर्वे पर पार्टियां क्या कह रही हैं? आगरा में अखिलेश यादव अपने ...
  • आरएसएस के कट्टरवादी एजेंडे को लागू करने के लिए जेएनयू को देश विरोधी साबित करने की कोशिश
    बहन मायावती जी ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार आरएसएस के कट्टरवादी एजेंडे को लागू करने के लिए जेएनयू को देश विरोधी साबित करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने विवि छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की देशद्रोह की धारा में गिरफ्तारी की निंदा की है। बहन मायावती जी ने यहां जारी एक बयान ...
  • ‘ब्लॉक प्रमुख चुनावों में सपा ने खूब की गुंडई, अपहरण भी कराए’: बहन मायावती जी
    बहन मायावती जी ने यूपी में सत्तारूढ़ सपा सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। बहन जी ने बुधवार को पार्टी मुख्यालय में हुई बैठक में ये आरोप लगाए। बहन जी ने इस बैठक में कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष, ग्राम प्रधान आदि चुनावों की तरह ही ब्लॉक प्रमुख चुनाव में सपा के लोगों ने जमकर ...
  • बीबीएयू में पीएम का विरोध, दूसरे स्टूडेंट्स ने मांगी माफी
    बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी यानी बीबीएयू के दीक्षांत समारोह में आए पीएम नरेंद्र मोदी का कुछ छात्रों द्वारा विरोध किए जाने को लेकर यूनिवर्सिटी के दूसरे स्टूडेंट्स ने पीएम से माफी मांगी है। माफीनामे पर बड़ी संख्या में छात्रों ने दस्तखत किए और सोमवार शाम इसे प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) भेज दिया गया। कैंपस में ...
  • JNU के 9 और स्टूडेंट्स ने लगाए भेदभाव के आरोप
    एक रिसर्च स्टूडेंट द्वारा पत्र लिखकर भेदभाव का आरोप लगाने के बाद मंगलवार को स्कूल ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज के 9 और स्टूडेंट्स सामने आए और सभी ने कहा कि उन्हें उनकी कास्ट को लेकर जेएनयू में हैरस किया जाता है। ये सभी एससी/एसटी या ओबीसी कैटिगरी से हैं। इन 9 स्टूडेंट्स का आरोप है कि ...
  • वेमुला मामले पर देशभर में प्रदर्शन करेंगे छात्र संगठन
    रिसर्च स्टूडेंट रोहित वेमुला की खुदकुशी के बाद 17 जनवरी को शुरू हुआ विरोध-प्रदर्शन अब हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी तक सीमित नहीं रहकर पूरे देश में फैलेगा। जेएनयू और डीयू सहित नौ विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधि अभी कैंपस में हैं और उन्होंने एक नैशनल जेएसी बनाई है ताकि वेमुला की खुदकुशी के मामले में कार्रवाई के लिए ...
  • सपा सरकार मे यहां दलितों पर टूट रहा दबंगों का कहर, पानी पीने नहीं देते, खिलाते हैं मलमूत्र
    झांसी. हैदराबाद यूनिवर्सिटी में पीएचडी स्‍टूडेंट रोहित वेमुला के सुसाइड किए जाने का मामला पूरे देश में बड़ा मुद्दा बना हुआ | हम वो 10 मामले बताने जा रहा है, जो दलितों के साथ होने वाले अत्‍याचार को बयां करते हैं। आगे पढ़िए, कौन से हैं 10 मामले… पहला मामला: 20 जनवरी 2016 बांदा के ...
Manyawar Shir Kanshi Ram Ji
Power of Uttar Pradesh
Power of Uttar Pradesh

हिन्दी समाचार :

Go Back to Current news

Current news


सपा के एक और विधायक ने थामा बसपा का दामन :

लखनऊ, 10 June, 2009

समाजवादी पार्टी के एक और विधायक चन्द्रभद्र सिंह ने मंगलवार को पार्टी से इस्तीफा देकर बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया है। पिछले चुनाव में सुल्तानपुर की इसौली सीट से सपा के टिकट पर दूसरी बार निर्वाचित हुए चन्द्रभद्र ने पार्टी छोड़ने के साथ विधायक पद से भी इस्तीफा दे दिया है। विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर ने उनका इस्तीफा मंजूर करते हुए इसौली सीट को रिक्त घोषित कर दिया है। 12 सीटें पहले से रिक्त थीं। इस प्रकार रिक्त सीटों की संख्या 13 हो गयी है।

चन्द्रभद्र सिंह ने आज लोकनिर्माण एवं सिंचाई मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी के साथ विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात कर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया।

उन्होंने बताया कि बसपा की नीतियों व मुख्यमंत्री मायावती की कार्यशैली में विश्वास व्यक्त करते हुए इसमें शामिल होने का फैसला किया है।

चन्द्रभद्र ने समाज वादी पार्टी और इसके नेता मुलायम सिंह यादव के बारे में खूब खरीखोटी सुनाई। कहा कि सपा अपनी नीतियों से हट गयी है और वर्ग विशेष की पार्टी बनकर रह गयी है। उन्होंने कहा कि संकट के समय वे सपा के साथ थे और जब उनपर मुसीबत पड़ी तो सपा ने कोई मदद नहीं की। बसपा ही एक ऐसी पार्टी है, जिसके शासनकाल में सर्व समाज का हित संभव है इसीलिए उन्होंने बसपा में शामिल होने का फैसला किया है। ज्ञातव्य हो कि लोकसभा चुनाव से पहले सपा के दो विधायकों गौरीशंकर व धनीराम वर्मा ने पार्टी से इस्तीफा देकर बसपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। चन्द्रभद्र सिंह पूर्व विधायक इन्द्रभद्र सिंह के बेटे हैं। इन्द्रभद्र सिंह की हत्या के बाद सपा ने उनकी सीट पर चन्द्रभद्र सिंह को टिकट दिया जहां से दो बार वे सपा से विधायक बने।


Reference: http://in.jagran.yahoo.com/

कानपुर से दिल्ली तक चौड़ी होगी जीटी रोड :

जीटी रोड पर सफर को और सुहाना बनाने के लिए कानपुर से दिल्ली के बीच इसे चौड़ा करने की कवायद शुरू की गयी है। अलीगढ़ तक पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के आधार पर यह काम होगा। यह संकेत शनिवार को लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) की सेतु निर्माण इकाई के अधिशासी अभियंता एमएस किदवई ने दिये। पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के मुताबिक भारत सरकार के परिवहन मंत्रालय की अधिकृत एजेंसी ने सर्वे भी शुरू करा दिया है।

नगर में जीटी रोड के चौड़ीकरण के अलग-अलग प्रस्ताव बने। प्रथम चरण में रामादेवी से नरेंद्र मोहन सेतु तक, द्वितीय में रामादेवी से अवधपुरी और तृतीय में रामादेवी से आईआईटी गेट के आगे तक जीटी रोड के चौड़ीकरण की योजना बनी। रामादेवी चौराहा से अवधपुरी तक 14 किलोमीटर दायरे में चार करोड़ रुपये से काम भी हो गया। आगे का काम कराने के लिए पीडब्ल्यूडी अधिकारियों ने जब परिवहन मंत्रालय के पास प्रस्ताव भेजा और बजट की मांग की तो पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत मार्ग चौड़ीकरण के लिए हरी झंडी दे दी गई। बल्कि यह भी स्पष्ट किया गया कि यह काम अब आईआईटी गेट के आगे तक नहीं बल्कि अलीगढ़ तक होगा। पीडब्ल्यूडी की सेतु निर्माण इकाई के अधिशासी अभियंता श्री किदवई ने कहा कि काम में परिवहन मंत्रालय की अधिकृत एजेंसी ने कानपुर, कन्नौज, कायमगंज, फर्रुखाबाद, मैनपुरी सहित उन सभी स्थानों पर सर्वे शुरू करा दिया है, जहां से जीटी रोड निकल रही है।

अलीगढ़ के आगे गाजियाबाद व दिल्ली तक का काम किसी और एजेंसी को दिया गया है। उन्होंने कहा एजेंसी के साथ पीडब्ल्यूडी अधिकारी काम की समीक्षा कर रहे हैं और समय-समय पर इसकी रिपोर्ट आलाधिकारियों को दी जा रही है।

Reference: http://in.jagran.yahoo.com/

डेरा सच्चखंड में संत रामानंद जी के अंतिम दर्शन करने पहुंची मुख्यमंत्री मायावती जी :

 Mayawati ji in punjab

आस्ट्रिया के शहर वियाना में संतों पर हुआ हमला गहरी साजिश का नतीजा है। इस साजिश से जल्द ही पर्दा उठाया जाएगा। यह कहना है उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती का। वह वीरवार को डेरा सच्चखंड में संत रामानंद जी के अंतिम दर्शन करने पहुंची थी।

उन्होंने कहा कि फिलहाल पूरे समुदाय को शांति व अमन बनाए रखने की जरूरत है। वह जल्द ही प्रधानमंत्री को पत्र लिख कर हमले की साजिश रचने वालों को बेनकाब करने और आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग करेंगी। उन्होंने कहा कि बसपा पूरी तरह से समुदाय के साथ है और पूरे समुदाय को चाहिए कि हिंसा की बजाय शांतिपूर्ण प्रदर्शन करें, क्योंकि हिंसा से किसी समस्या का हल नहीं होता है। उन्होंने कहा कि संत रामानंद जी गुरु रविदास जी की वाणी का प्रसार करते थे और उनकी हत्या कर समाज में परिवर्तन की लहर पर रोक लगाने का प्रयास किया गया है। मायावती संत रामानंद जी को श्रद्धासुमन भेंट करने के बाद संत निरंजन दास से भी मिली और उनका हाल चाल जाना।

Reference: http://in.jagran.yahoo.com/

कांग्रेस और भाजपा ने दलितों, पिछड़ों और गरीबों के हितों की उपेक्षा की :

मथुरा। बसपा प्रमुख एवं प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने कहा है कि सीबीआई की गतिविधियों को देखकर लगता है कि कांग्रेस सत्ता में वापस नहीं आ रही है, इसीलिए दागी नेताओं और अपने लोगों को कांग्रेस क्लीन चिट दिलाने में लगी है। जगदीश टाइटलर और बोफोर्स तोप सौदे के आरोपी क्वात्रोची के मामले से यही साबित होता है। बसपा प्रमुख गुरुवार को यमुनापार में एक जनसभा को संबोधित कर रही थीं।

उन्होंने कांग्रेस और भाजपा को सबसे ज्यादा आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि केंद्र में रहने वाली इनकी सरकारों ने दलितों, पिछड़ों और गरीबों के हितों की उपेक्षा की और पूंजीपतियों के इशारों पर आर्थिक नीतियां बनायीं। उन्होंने राहुल गाधी के दलित प्रेम पर कटाक्ष करते हुए कहा कि दलितों के घर जाने से, मिंट्टी सने बच्चों को गोद में उठाने से और उनकी स्थिति पर घड़ियाली आंसू बहाने से उनकी स्थिति में सुधार नहीं होगा।

अपनी सरकार के दो साल के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने सर्व जन के हित के लिए काम किया है। किसी जाति-धर्म के लोगों पर जुल्म नहीं होने दिया। सर्व समाज के नेताओं को भागीदारी दी। मुख्यमंत्री ने उप्र राज्य में छोटे-छोटे राज्य बनाने की वकालत भी की। उन्होंने कहां कि अगर वह केंद्र में सत्ता संभालती हैं तो इन मुद्दों का समाधान सबसे पहले करेंगी।

उन्होंने अपरोक्ष रूप से वरुण गांधी पर रासुका लगाने संबंधी कार्रवाई को सही ठहराते हुए कहा कि उनकी सरकार में कानून का राज कायम किया गया है। मायावती ने सच्चर कमेटी की सिफारिशों पर अमल न करने का आरोप भी कांग्रेस पर लगाया। भाजपा को जाति-धर्म के नाम पर बांटकर राज करने वाली पार्टी बताया। उन्होंने बसपा प्रत्याशियों को जिताने की अपील की। सभा को हाथरस के प्रत्याशी राजेंद्र ने भी संबोधित किया।

Reference: http://in.jagran.yahoo.com/

कांग्रेस सीबीआई का दुरुपयोग विरोधियों को फंसाने :

फर्रुखाबाद। मुख्यमंत्री मायावती ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि बोफोर्स कांड के आरोपी क्वात्रोची को क्लीन चिट दिए जाने से यह स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस सीबीआई का दुरुपयोग विरोधियों को फंसाने एवं अपने समर्थकों को राहत दिलाने के लिए कर रही है।

वे बुधवार को यहां पर बसपा प्रत्याशी नरेश अग्रवाल के समर्थन में जनसभा को संबोधित कर रही थीं। 84 के दंगों का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषी लोगों को सीबीआई का दुरुपयोग कर बचाया जा रहा है। कांग्रेस जानती है कि वह सत्ता में नहीं आएगी। इस कारण अपने लोगों को राहत दिलाने में जुटी है। केंद्र में मेरी सरकार बनी तो इसकी भी जांच करायी जाएगी।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि केंद्र की कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार द्वारा प्रदेश सरकार का पैकेज स्वीकृत न किए जाने के कारण अब प्रदेश की सरकार ने अपने सीमित संसाधनों के जरिये विकास की योजनाएं बनाई है। पूर्व की सपा सरकार में ध्वस्त हुई कानून व्यवस्था को बसपा की सरकार ने पटरी पर लाने का काम किया है। अपराधी किसी जाति का हो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। गांधी परिवार का बेटा भी नहीं बच सकता।

अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने अनुसूचित जाति व जनजाति के रिक्त पदों को भरने का काम किया। केंद्र सरकार ने गरीब सवर्णो के लिए भी कोई काम नहीं किया। केंद्र में बसपा सरकार बनते ही हम गरीब सवर्णो के लिए भी आरक्षण की व्यवस्था करेंगे।

उन्होंने कहा कि बसपा सरकार ने कहार, कश्यप, बिंद, राजभर, धीमर, बाथम, पाल, माझी आदि जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने के लिए केंद्र को कई बार पत्र लिखा, लेकिन अभी तक इस पर कोई निर्णय नहीं हुआ। वह केंद्र की सत्ता में पहुंचते ही यह भी प्राथमिकता से करेंगी। आतंकवाद व नक्सलवाद को देश से समाप्त करने का प्रयास किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि देश में अधिकतर समय कांग्रेस, भाजपा व उनकी सहयोगी पार्टियों की सरकारे रही है। यह सरकारे बड़े पूंजीपतियों के हाथों में खेलती रहीं। मेरी सरकार के ऊपर किसी पूंजीपति का दबाव नहीं होगा।

उन्होंने लोगों से अपील की कि घरों पर चूल्हा बाद में जलाएं पहले बूथ पर जाकर वोट दें। मायावती ने कांग्रेस के दलित प्रेम को नाटक बताते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने अभी तक 72 हजार करोड़ रुपये की धनराशि दलितों के कल्याण के लिए नहीं दी, जबकि यह उनका हक बनता था।

Reference: http://in.jagran.yahoo.com/

संजय दत्त की गांधीगीरी फर्जी :

बसपा प्रमुख मायावती ने यहां के तेलीबाग क्षेत्र में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित करते हुए सपा, कांग्रेस और भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अभिनेता और सपा के महासचिव संजय दत्त के आपराधिक इतिहास को देख सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें चुनाव लड़ने की ही अनुमति नहीं दी। ऐसे में अब संजय दत्त को अमर सिंह के साथ फर्जी गांधीगीरी करनी पड़ रही है और कोई भी उनकी पप्पी-झप्पी को स्वीकार नहीं कर रहा है। संजय दत्त की सगी बहन भी उनकी पप्पी-झप्पी नहीं ले रही हैं। जबकि भाजपा के प्रत्याशी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जिस पत्र को लेकर घूम रहे हैं उस पर जनता को विश्वास नहीं है।

मायावती ने कहा अटल जी का स्वास्थ्य बहुत खराब है और न तो वह किसी को ठीक से पहचान पा रहे हैं और न ही किसी की बात ही समझ पा रहे हैं। बोलने में भी पूर्व प्रधानमंत्री को दिक्कत हो रही है। ऐसे में उन्होंने कैसे पत्र लिखा होगा। ये उनकी सोच से परे है। संजय दत्त के पप्पी-झप्पी वाले बयान पर मायावती ने यह कहा कि जिनका आपराधिक इतिहास होता है उनकीपप्पी-झप्पी प्रदेश की सरकार नहीं लेती बल्कि उन्हें जेल भेजती है। मायावती के इस एलान पर सभा स्थल में मौजूद 15 हजार से भी अधिक लोगों ने मायावती जिन्दाबाद का नारा लगाकर उनका उत्साह बढ़ाया। जिसपर मायावती ने सपा-कांग्रेस के यहां से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों पर भी चुटकी ली और कहा कि इन दोनों दलों को यहां पर एक कार्यकर्ता भी ऐसा नहीं मिली जिसे वह चुनाव मैदान में उतारते। ऐसे में इन दलों ने बाहरी लोगों को बसपा प्रत्याशी डा.अखिलेश दास के खिलाफ मैदान में उतारा है। बसपा में अपराधियों के आने को लेकर सपा नेताओं द्वारा लगाए गए आरोप पर भी मायावती बोली।

उन्होंने कहा कि अगर बसपा में सभी अपराधी आ जायेंगे तो सपा का वजूद खत्म हो जायेगा। यह दावा करते हुए बसपा प्रमुख ने सभा में आये अपने समर्थकों से अपील की कि वह विपक्षी दलों के प्रचार पर ध्यान न दें क्योंकि विपक्षी दल साजिश पर उतारू हैं और बसपा समर्थकों को गुमराह करने के लिए लालच और प्रलोभन दे रहे हैं।

Reference:http://in.jagran.yahoo.com/

2421 करोड़ की विकास योजनाओं को अपनी मंजूरी :

मायावती ने लखनऊ में कराये जा रहे विकास कार्यों को लेकर भी सफाई दी। उन्होंने कहा कि लखनऊ में प्रदेश सरकार ने 2421 करोड़ की विकास योजनाओं को अपनी मंजूरी दी है। इस रकम से लखनऊ में पुल, फ्लाईओवर, सड़क, गली, चौराहे, पार्क और अन्य तमाम कार्य कराये जायेंगे। यहां बन रहे अम्बेडकर पार्क और अन्य महापुरुषों के नाम पर कराये जा रहे निर्माण कार्य को लेकर उन्होंने कहा विपक्षी दलों के नेता अपनी जातिवादी मानसिकता के कारण इन निर्माण कार्यो को लेकर सरकार पर आरोप लगाते है। जबकि वास्तविकता तो यह है कि सपा प्रमुख ने अपने सैफई गांव को चमकाने के लिए जो रकम खर्च की उससे कई हजार गांवों का विकास हो सकता था। इस प्रकार कांग्रेस ने दिल्ली में लालकिले के पीछे राजघाट में गांधी और नेहरू के स्मारक बनवाये है पर कोई भी दल इसकी आलोचना नहीं करता। बसपा प्रमुख ने 61 वर्षो से देश में गरीबी और बेरोजगारी खत्म न होने के लिए कांग्रेस व भाजपा की आलोचना की और कहा कि बसपा के केन्द्र की सत्ता पर काबिज होने पर सभी वर्गों के हितों का ध्यान रखा जायेगा। ये दावा करते हुए उन्होंने लखनऊ से पार्टी प्रत्याशी डा. अखिलेश दास गुप्ता व मोहनलालगंज सीट से जयप्रकाश को जिताने की अपील अपने समर्थकों से की।

Reference:http://in.jagran.yahoo.com/

हरियाणा मे क़ानून ब्याबस्ता पूरी तरह चौपट :

प्रदेश में अपराधियों का दुस्साहस बढ़ गया है। रोज हो रही आपराधिक घटनाएं चिंता पैदा कर रही हैं और पुलिस को सवालों के घेरे में ले रही हैं। एक के बाद एक हत्या, अपहरण की वारदात पुलिस की कार्यप्रणाली में चूक की ओर इशारा करती हैं। सोनीपत में रविवार को सरपंच की हत्या इसका नवीनतम उदाहरण है। चुनाव के समय सुरक्षा प्रबंधों का यह हाल है तो आम दिनों में क्या हाल होता होगा, इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। कुछ दिन पहले ही इसराना में मुख्यमंत्री के रोड शो से कुछ घंटे पहले सरेआम एक युवक को बदमाशों ने खदेड़ कर मार डाला था। अपहरण और फिरौती वसूलने की खबरें अक्सर सुर्खियों में होती हैं। इस तरह के माहौल का चुनाव पर भी असर पड़ सकता है। जहां विभिन्न संगठन लोगों को अपने मताधिकार के प्रति जागरूक करने में जुटे हैं, ऐसे में असुरक्षा का माहौल सही नहीं है।

चुनाव के मद्देनजर सबसे जरूरी है शांति एवं सुरक्षा का वातावरण। पुलिस और सुरक्षा व्यवस्था से जुड़े अधिकारियों को पूरी मुस्तैदी दिखा इस चुनौती को स्वीकार करना होगा, ताकि लोकतंत्र का महापर्व लोकसभा चुनाव प्रदेश में शांतिपूर्वक एवं निर्विघ्न संपन्न हो सके। अपराधी जिस तरह सरेआम वारदात कर फरार हो जाते हैं वह पुलिस की कमजोरी का सीधा-सीधा सुबूत है। बाद में बयानबाजी और कार्रवाई की थोथी बातें करने का कोई मतलब नहीं रह जाता है। ऐसे भी उदाहरण हैं कि जेल से फिरौती की मांग की गई और अपराधी की पहचान के दावे भी किए गए, लेकिन कार्रवाई के नाम पर शायद ही कुछ हुआ। उम्मीद है कि आला अधिकारी स्थिति की गहनता से समीक्षा करेंगे और ऐसे उपाय करेंगे जिससे सुरक्षा का वातावरण तैयार होगा। यदि पुलिस अपनी पूरी क्षमता और जज्बा दिखाए तो ऐसा कोई कारण नहीं है

Reference:http://in.jagran.yahoo.com/

सामूहिक नरसंहार का आरोपी सपा से प्रत्याशी:

हमीरपुर। पंचायत चुनाव हो या विधानसभा चुनाव या फिर लोकसभा चुनाव हो, दबंगई से जीत कैसे हासिल की जाती है ये बाहुबली अशोक सिंह चंदेल से बेहतर शायद ही कोई जनता हो। यूपी की हमीरपुर-महोबा से ये बाहुबली जनता से वोट मांग रहा है।

मुलायम सिंह यादव चंदेल के लिए हुआ चुनावी सभा में लोगों से कहते हैं- हमने आप को एक ऐसा प्रत्याशी दिया है जो गोली खाने से नहीं डरता है और न ही जेल जाने से डरता है। हम आप से अपील करते हैं कि इस प्रत्याशी को जितायें और सभी की जमानत जब्त करा दें।

वाकई मुलायम सिंह ने जनता के सामने ऐसा उम्मीदवार पेश किया है जो जेल से जाने से नहीं डरता, कानून और पुलिस

से नहीं डरता। पुलिस फाइलों में इनके नाम के कई बायोडेटा मिल जाएंगे। पिछले 20 सालों में इनके खिलाफ हत्या, हत्या की कोशिश और अपहरण समेत 17 मुकदमे दर्ज हुए।

सबूतों के अभाव में 14 मुकदमों में ये बरी हो चुके हैं। 3 मुकदमे अभी भी चल रहे हैं जिसमें 5 लोगों की सामूहिक नरसंहार का मुकदमा, अपहरण की कोशिश और जिला पंचायत सदस्यों को कैद करने का मुकदमा शामिल है।

लेकिन अशोक सिंह चंदेल अपने ऊपर लगे आरोपों को फर्जी बता रहे हैं। वो कहते हैं कि मायावती उनको फंसाना चाहती हैं। मेरे खिलाफ अपहरण का मुकदमा फर्जी लिखवाया गया है।

Reference: http://khabar.josh18.com

आजमगढ़ का माफिया बना बीजेपी उम्मीदवार:

आजमगढ़। आजमगढ़ का नाम कौन नहीं जानता। यहां पर एक माफिया राज करता है। उसका नाम है रमाकांत यादव। राम नाम का जाप करने वाली पार्टी ने उसे टिकट दे दिया है और जनता को छोड़ दिया है राम भरोसे।

यादव के खिलाफ पुलिस रिकॉर्ड में 36 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें एक दर्जन मुकदमे सिर्फ हत्या और हत्या की कोशिश के हैं। इसके अलावा गुंडा एक्ट, गैंगस्टर एक्ट, रासुका, एक्सटार्शन के भी मामले हैं।

लेकिन बीजेपी को ये बायोडाटा बिल्कुल नजर नहीं आता। उन्हें ये माफिया 24 कैरैट शुद्ध नजर आता है। इसलिए आजमगढ़ की जनता से राजनाथ सिंह खुद कहने आए कि हमने खूब सोच समझ कर रमाकांत यादव को चुना है।

रमाकांत के खिलाफ चार लोगों की समूहिक हत्या का मुकदमा भी दर्ज है लेकिन रमाकांत और उसका परिवार हमेशा राजनीति का लबादा ओढ़े रहा। कभी समाजवादी तो कभी बीएसपी, तो कभी बीजेपी, हर दल में रही इसकी पैठ और शायद इसी रसूख का इस्तेमाल करने वाले इस माफिया के तमाम मामलों में फाइनल रिपोर्ट लग गई और कई की तो फाइलें ही लापता हो गईं।

रमाकांत यादव कहते हैं कि किसी गरीब की मदद करना अपराध है तो मैं अपराधी हूं। किसी के पास कुछ लिखा हुआ हो तो सामने आए।

Reference: http://khabar.josh18.com

दलित की बेटी प्रधानमंत्री बने:

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने कहा है कि देश के पिछड़े वर्गों और अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए एक दलित की बेटी को प्रधानमंत्री बनाना चाहिए

उन्होंने उत्तर प्रदेश में ही एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सत्ता में आए बिना ऐसा संभव नहीं है.

वो ख़ुद इससे पहले प्रधानमंत्री बनने की इच्छा जता चुकी हैं. उन्होंने रैली में कहा, जब तक बसपा केंद्र और राज्य दोनों जगह सत्ता में नहीं आती, तब तक उत्तर प्रदेश का विकास नहीं हो सकता.

मायावती का कहना था, "अगर आप दलित की बेटी को प्रधानमंत्री बनाते हैं तो उत्तर प्रदेश का नाम पूरी दुनिया में चर्चित होगा."

उन्होंने कहा कि अगर वो प्रधानमंत्री बनी तो उत्तर प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा मिलेगा.

ग़ौरतलब है कि मायावती कई बार प्रधानमंत्री बनने की इच्छा जता चुकी हैं और लोकसभा चुनाव में तीसरे मोर्चे में शामिल हैं.

लेकिन चुनावों में बसपा अकेले उत्तर प्रदेश की सभी अस्सी सीटों पर चुनाव लड़ रही है.

देश की अगली सरकार बनाने में उत्तर प्रदेश की मुख्य भूमिका होगी क्योंकि यहां किसी भी राज्य से सबसे ज़्यादा सीटें हैं.

Reference: http://www.bbc.co.uk/hindi/indiaelection/story/2009/04/090425_mayawati_pm_alk.shtml

दिग्विजय की बहन मायावती जी को खुलेआम धमकी:

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने सोमवार को हरदोई में अपनी चुनावी रैली में यूपी की मुख्यमंत्री मायावती को खुलेआम धमकी दी है वो सीबीआई की मदद से उन्हें परेशान कर सकते हैं। हम सी बी ई से बोल कर केस मे फसा देगे |
उन्होंने मायावती पर निशाना साधते हुए कहा-बहन जी अगर कांग्रेस के उम्मीदवार, कार्यकर्ताओं और लोगों को आपने परेशान किया तो फिर मत भूलिएगा कि हमारी भी सीबीआई है।

कक्षा एक से ही मिलेगी अंग्रेज़ी की शिक्षा:

उत्तर प्रदेश के एक लाख से अधिक सरकारी प्राइमरी स्कूलों में अब पहली कक्षा से ही अंग्रेज़ी भाषा भी पढ़ाई जाएगी.

मुख्यमंत्री मायावती की अध्यक्षता मे मंत्रिमंडल ने शनिवार को यह फ़ैसला किया.

उत्तर भारत मे राजनीतिक दलों का एक वर्ग अंग्रेज़ी विरोधी रहा है. उनमें विपक्षी समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिह यादव भी शामिल हैं.

शायद इसीलिए एहतियातन शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने यह महत्त्वपूर्ण फ़ैसला अपने स्तर से लेने के बजाय मंत्रिमंडल में ले जाना उचित समझा.

मुलायम सिह यादव ने अभी नए फ़ैसले पर प्रतिक्रिया नहीं दी है.

उत्तर प्रदेश के प्राईमरी स्कूलों मे करीब दो करोड़ पचास लाख बच्चे पढ़ते हैं. इनमे अभी क्लास तीन से अंग्रेज़ी पढाई जाती है.

इसकी वजह से संपन्न वर्गों के लोग अपने बच्चों को निजी स्कूलों मे पढ़ने के लिए भेजते हैं.

राज्य के प्राथमिक शिक्षा सचिव राज प्रताप सिंह ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि ' बेसिक शिक्षा परिषद के छात्र निजी स्कूलों के छात्रों की तुलना मे कमज़ोर हो रहे थे. और राष्ट्र के अन्य राज्यों मे भी अंग्रेज़ी शिक्षा पर ज़ोर दिया जा रहा है. अंग्रेज़ी शिक्षा का ज्ञान अन्य राज्यों से जोड़ता है. अब जो वैश्वीकरण का ज़माना आ रहा है, रोज़गार के नए अवसर आ रहे हैं उसमे अंग्रेज़ी भाषा का महत्व बढ़ रहा है.'

मंत्रिमंडल के निर्णय के अनुसार प्राथमिक स्कूलों मी अभी अंग्रेज़ी परिचयात्मक रूप मे पढ़ाई जाएगी और उसकी अलग से परीक्षा नहीं होगी ताकि बच्चों पर अतिरिक्त बोझ न पड़े.

राजप्रताप सिंह के मुताबिक विशेषज्ञों की राय यह थी कि जितनी देर से भाषा पढ़ाई जाती है , बच्चों में ग्रहण करने की क्षमता कम होती.

इसलिए कम उम्र से ही यानी कक्षा एक से ही हिन्दी के साथ साथ अब अंग्रेज़ी भी सिखायी जाएगी.

Reference: http://www.bbc.co.uk/hindi/regionalnews/story/2008/05/080510_up_english.shtml

क़ानून-व्यवस्था के लिए 'अनोखी' पहल:

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने घोषणा की है कि राज्य की जनता पिछले तीन वर्षों के दौरान हुए अपराधों, शोषण या अत्याचार के मामले की प्राथमिकी एक महीने के अंदर दर्ज करा सकती है.

शुक्रवार को क़ानून व्यवस्था की दिशा में कुछ नई घोषणाएँ करते हुए उन्होंने कहा कि वो अपराध मुक्त राज्य के अपने वादे को निभाने के लिए तैयार हैं.

घोषणा में कहा गया है कि अगर पीड़ित लोग चाहेंगे तो राज्य में अगले एक महीने तक पिछले तीन वर्षों के दौरान हुए हर छोटे-बड़े अपराध की प्राथमिकी दर्ज की जाएगी और पुलिस उस पर कार्रवाई करेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की पिछली समाजवादी पार्टी सरकार में जिन लोगों पर ज़ुल्म-ज़्यादती हुई है और उनकी एफ़आईआर भी दर्ज नहीं हुई है उन्हें न्याय पाने का मौक़ा दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि इसके लिए ज़िले स्तर पर कुछ विशेष काउंटर भी स्थापित किए जाएँगे और इसके लिए हर ज़िले के पुलिस प्रमुखों को विशेष निर्देश भी जारी किए गए हैं. मुख्यमंत्री ने राज्य में पिछले महीने ख़त्म हुए चुनावों के दौरान समाजवादी पार्टी के उस नारे को भी आड़े हाथों लिया जिसमें कहा गया था कि यूपी में है दम, क्योंकि जुर्म यहाँ है कम.

उन्होंने कहा, "पीड़ित लोगों की ओर से प्राथमिकी दर्ज होने और उन पर कार्रवाई होने से हो सकता है कि राज्य में अपराध के आँकड़ों में बढ़ोत्तरी होती नज़र आए, पर हमारा मक़सद लोगों को अपराध से मुक्ति दिलाना है न कि फ़र्ज़ी आँकड़ों की मदद से 'जुर्म यहाँ है कम' का नारा दोहराना."

साथ ही पुलिस प्रशासन के काम के तरीक़े को लेकर भी निर्देश जारी किए गए.

उन्होंने कहा, " रा्ज्य पुलिस के काम का आकलन उनके कार्यक्षेत्र में पंजीकृत मामलों के आधार पर नहीं होगा बल्कि मामलों के निपटारे, अपराधियों की गिरफ़्तारियाँ जैसे अन्य मानकों के आधार पर होगा.”

उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस को नई उम्र के बिगड़े युवकों को समझाने का काम भी करना होगा ताकि वे सही रास्ते पर लौट सकें.

माना जा रहा है कि जहाँ इस घोषणा के राजनीतिक रंग आने वाले समय में देखने को मिल सकते हैं वहीं कई लोगों को राहत भी मिलेगी और साथ ही राज्यभर में का़नून व्यवस्था क़ायम करने संबंधी संदेश भेज पाने में भी मुख्यमंत्री मायावती सफल हुई हैं.

Reference:http://www.bbc.co.uk/hindi/regionalnews/story/2007/06/070622_maya_announce.shtml

चार हज़ार सज़ायाफ़्ता क़ैदी रिहा होंगे:

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री मायावती ने राज्य की अलग-अलग जेलों में सज़ा काट रहे चार हज़ार क़ैदियों को रिहा करने के निर्देश दिए हैं.

इनकी रिहाई का फ़ैसला मायावती के पहली बार मुख्यमंत्री बनने के 12 साल पूरा होने के अवसर पर किया गया है.

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश के जेल नियमावली ये प्रावधान है कि जिन क़ैदियों का चाल चलन ठीक है और जो गंभीर अपराधों के लिए दंडित नहीं किए हैं, बीमार और वृद्ध हैं, उनको सरकार समयपूर्व रिहा कर सकती है.

इसी नियम के तहत मुख्यमंत्री मायावती ने यह फ़ैसला किया है.

रिहा होने वाले क़ैदियों के स्वास्थ्य की जाँच मेडिकल बोर्ड से कराई जाएगी.

अभी उत्तर प्रदेश की जेलों में 18 हज़ार से ज़्यादा सज़ायाफ़्ता क़ैदी हैं जिनमें से चार हज़ार को मुख्यमंत्री के फ़ैसले से राहत मिलेगी.

सरकार ने स्पष्ट किया है कि किसी विदेशी या दूसरे राज्य के क़ैदियों को रिहा नहीं किया जाएगा.

Reference:http://www.bbc.co.uk/hindi/regionalnews/story/2007/06/070603_up_inmatesfree.shtml

Bharat Ratna Baba Saheb